DEVI BAGLAMUKHI – "The enemy destroyer".mate power in modern era, it has atomic powers and indeed it is a enemy destroyer".

Mahavidya, Bagala, R.N. sharma, the destroyer, Sadhak, Black Magaic, Sadhana, Killing, Power, supernatural, destructive, omnipotent, attract, enemy, Balagamukhi, Vaglamukhi, Baglamukhi, Bagulamukhi, Baglamuki, Banglamukhi, Banglamuki, Baglamukhi Yantra, Maha Baglamukhi, Bhojpatra yantra, Yantras, energised, pratishta, prathishthit, sidh, Raj Naryan sharma,

Maa Baglamukhi Sadhana Kendra Estd - 2007

Mahavidya, Bagala, R.N. sharma, the destroyer, Sadhak, Black Magaic, Sadhana, Killing, Power, supernatural, destructive, omnipotent, attract, enemy, Balagamukhi, Vaglamukhi, Baglamukhi, Bagulamukhi, Baglamuki, Banglamukhi, Banglamuki, Baglamukhi Yantra, Maha Baglamukhi, Bhojpatra yantra, Yantras, energised, pratishta, prathishthit, sidh, Raj Naryan sharma,
Mahavidya, Bagala, R.N. sharma, the destroyer, Sadhak, Black Magaic, Sadhana, Killing, Power, supernatural, destructive, omnipotent, attract, enemy, Balagamukhi, Vaglamukhi, Baglamukhi, Bagulamukhi, Baglamuki, Banglamukhi, Banglamuki, Baglamukhi Yantra, Maha Baglamukhi, Bhojpatra yantra, Yantras, energised, pratishta, prathishthit, sidh, Raj Naryan sharma,
Mahavidya, Bagala, R.N. sharma, the destroyer, Sadhak, Black Magaic, Sadhana, Killing, Power, supernatural, destructive, omnipotent, attract, enemy, Balagamukhi, Vaglamukhi, Baglamukhi, Bagulamukhi, Baglamuki, Banglamukhi, Banglamuki, Baglamukhi Yantra, Maha Baglamukhi, Bhojpatra yantra, Yantras, energised, pratishta, prathishthit, sidh, Raj Naryan sharma,

!! देवी बगलामुखी को समर्पित दुनिया की पहली वेबसाइट में आपका स्वागत है !!

baglamukhi
baglamukhi or bagalamukhi yantra
baglamukhi or bagalamukhi yantra
Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,Om Hleem,

बगलामुखी देवी को वल्गामुखी या बगुलामुखी के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है पीले या क्रेन का सामना करने वाली देवी। बगलामुखी ब्रह्मांड के सभी शत्रुओं को नष्ट करने वाला परम अस्त्र है। बगलामुखी वह महाशक्ति है जो अनिष्ट शक्तियों को पंगु बना देती है। बगलामुखी देवी परब्रह्म की सहायक और वाणी, गति और ज्ञान की नियंत्रक हैं। बगलामुखी को काली शक्ति की देवी मान लेना उचित नहीं है। वास्तव में बगलामुखी की सभी विनाशकारी क्रियाओं में – संरक्षण विरासत में मिला मकसद है।

बगलामुखी “तलवार और चाकू विभिन्न उद्देश्यों की पूर्ति के लिए बनाई गई- चूँकि हम सब्जी काटने के लिए तलवार का उपयोग नहीं करते हैं, इसलिए हमें छोटे उद्देश्यों के लिए बगलामुखी महाविद्या का उपयोग नहीं करना चाहिए। बगलामुखी महाविद्या किसी भी स्थिति में अजेय है इसका बुद्धिमानी से उपयोग करें।” – श्री आर.एन. शर्मा

परिचय

 श्री बगलामुखी की साधना आधुनिक युग मे परमशक्ति के रूप मे जानी जाती हैं| इनके पास औलोकिक शक्ति है और यह शत्रू के विनाश मे अचूक हैं| दुनिया के मुख्य दस महाविधया मे आठवाँ बगलामुखी महाविधया जाना जाताहैं| यह पराक्रम की दूसरी रात के रूप मे पहचानी जाती है और यह क्रूरता की शक्ति है| यह त्रिनेत्री पीतांबरी,रत्नो से सोभित चंद्रमा रूपीमुकुट,चंपक फूल धारी देवी हैं| इन्होने वाम हस्त से शत्रू के जीभ और दाये हाथ से वार करती है|

  बगला मा के दाहिने तरफ महारुद्र आसीनहै,जो इस ब्रह्मांड को नष्ट कर सकतें है. जैसा- की इनके नाम से पता चलता है-की यह हंस मुख के समान है| बगला या बागला संस्कृत के मूल वल्गा से बना है| उनके रूप से स्वर्ण की आभा निकलती है और वह पीला वस्त्र धारण करती है|यह अमृत से भरे महासागर के मध्य पीले कमल के सुनहरे सिंहासन पर विराजमान है| इनके सिर पर अर्ध चन्द्र शोभित है.ये दाहिने हाथ मे गदा धारण किए हुए है जिससे यह असुरो को पराजित करती है.बायी हाथ से उसकी जीभ को खीचती है| इनकी यह छवि कभी-कभी क्रूरता का प्रदर्शन करती है|

         यह किसी भी शत्रू को शक्तिहीन और लाचार करके खत्म करती है| यह बगलामुखी साधक के लिए एक वरदान की तरह है|

“बगलामुखी का मतलब सिर्फ काली शक्ति या काला जादू के रूप मे नहीं हैं|वास्तव मे बगलामुखी ब्रहमांड को काला जादू तथा बुरी शक्तियों से रक्षा करती है|”    – मंत्रमहोदधि

क्या आप मुसीबत में हैं? अपनी किसी भी प्रकार की व्यक्तिगत समस्या हमें बताएं।

सहायता के लिए यहां क्लिक करें।

तुरंत राहत के लिए। 
यहाँ क्लिक करें।

“जनता में एक गलत धारणा प्रचलित है कि बगलामुखी महाविद्या प्रकृति में विनाशकारी है। इस धारणा के विपरीत इसका उद्भव विश्व को विनाश से बचाने के लिए हुआ था।” – आर. एन. शर्मा।

baglamukhi sadhak r.n.sharma
Scroll to Top